28 अप्रैल 2011

संसद पर एटमी परीक्षण

खबर : चीन का मानना है कि भारत किसी भी वक्त एटमी परीक्षण कर सकता है. क्योंकि भारत लंबे समय से परमाणु परीक्षण का मौका तलाश रहा है.

तड़का : इस बार अगर एटमी परीक्षण संसद पर कर दिया जाए तो क्या कहने! मजा आ जाएगा! कई ‘राक्षसों’ से मुक्ति मिल जाएगी, जैसे कि भ्रष्टाचार, महंगाई, साम्प्रदायिकता आदि-आदि.

4 टिप्‍पणियां:

  1. अभी पिछले कई चटकारेदार चारलाइना लेख पढ़े..

    उत्तर देंहटाएं
  2. चीन की आशंका और आपका तड़का दोनों खेदजनक हैं। संसद एक प्रतीक है और उसकी मर्यादा को वहां पहुंचे राक्षसों(जिनके लिए हम आप जैसे मतदाता ही जिम्मेदार हैं)के लिए तार-तार नहीं किया जा सकता।

    उत्तर देंहटाएं
  3. शिक्षामित्र जी तो असली में नाराज़ हो गये .... तडका लगाने वाले की मंशा नहीं समझे.....सचमुच ... कई वास्तव में अत्यधिक संवेदनशील होते हैं.
    शिक्षामित्र जी अपना धर्म निभाते हैं. ... राष्ट्र और राष्ट्रभक्ति से कोई मज़ाक नहीं चलेगा, एम् सिंह जी!

    उत्तर देंहटाएं
  4. main itna hi kahunga.....ki acche neta chun kar jaayen ..aur we kartavya nahi nibhayenge to agle chunav me unhe ham na laayen...

    sansad se matlab m.singh ji ka un netaon ke samooh se hai jo ki janta ko thagte rahte hain..

    उत्तर देंहटाएं