03 अगस्त 2011

दिल्‍ली पुलिस का नज़र दोष

खबर: वोट के बदले नोट कांड की जांच में दिल्‍ली पुलिस को किसी भी नेता का हाथ नहीं दिखा.
जरा ठाठ मेरे देखो.... 
तड़का: दिल्‍ली पुलिस को अपनी पास की नज़र का इलाज करा लेना चाहिए. इसलिए तो इनके सामने से अपराधी निकल जाते हैं और इन्‍हें नज़र तक नहीं आते.

3 टिप्‍पणियां:

  1. देहली पोलिसे की नजरे कमजोर नहीं हुई है वो चोरो को देखने ही नहीं चाहती

    उत्तर देंहटाएं
  2. जो देखना चाहेंगे वही तो दिखेगा भाई !

    उत्तर देंहटाएं
  3. ये सब फ़ालतू की भाग-दौड़ है। आमूल-चूल परिवर्तन की जगह ये लोग पैबंदकारी से काम ले रहे हैं।
    आप क्या जानते हैं हिंदी ब्लॉगिंग की मेंढक शैली के बारे में ? Frogs online

    उत्तर देंहटाएं